ad

 



बृहद विमान शास्त्र VIMAN SASTRA

  

पुस्तक का नाम /Name of Book:बृहद विमान शास्त्र  VIMAN SASTRA

लेखक का नाम /Name of Author/:महर्षिभारद्धाज 

पुस्तक की भाषा /LANGUAGE  OF BOOK :हिंदी /HINDI 
पुस्तक आकार /SIZE OF  BOOK :13 MB 

कुल पन्ने /Total Page  :336 

डाउनलोड स्थिति /Download Status :Best




*********************************************************************************

                                                  पुस्तक परिचय 



"विमान शास्त्र  पर  हज़ारो साल पहले लिखी गए अपने आप में प्रामाणिक और दुर्लभ  किताब हैं जिसे हम पहली बार आपके सामने ला रहे है 
जिसे महर्षि भारद्वाज  ने  लिखा था जिसका जिक्र रामायण और महाभारत कल में अनेको जगह पर  मिलता है पुष्पक विमान के बारे आपने सुना ही होगा जो मन की गति से चलता था और जिसमे सूर्य किरणों को पारद के साथ अनूठे प्रयोग किये गए थे ये विमान अनोखा 
था ये विमान बनाने की सबसे पुरानी  टेक्निक है तथा रहस्यमय  भी है तो आये पढ़े है और जाने हज़ारो साल पहले कैसे बनता था विमान | " 
******************************************************

                                   BOOK INTRODUTION                                    
"VIMAN SASTRA IS ONE OF ANICIENT BOOK ON SPACE & AERONAUTICAL TECHNOLOGY AUTHOR THE GREAT SAGA MAHARISHI BHARDWAJ THE TECHNOLOGY DESCRIBE THE DETAIL HOW AEROPLANE MADE SINCE 5000 YEAR AGO IN INDIA VIMAN SASTRA DETAIL THE TECHNOLOGY OF FABRICATION AND CREATION OF AEROPLANE  BY SOLAR SCIENCE ,METALLIC SCIENCE ,AERO SCIENCE MERCURY SCIENCE AND THIS PLANE IS EXTRAORDINARY FLY OVER THE SUN MOON SPACE AND UNIVERSE CONTROL THE SPEED OF MANN (MIND)SO DOWNLOAD AND READ AND ENJOY THE THOUSAND YEAR AGO LOST SCIENCE ".


******************************************************

कृपया किताबो को अपने प्रियजनों के साथ शेयर करे मतलब की साँझा करे और ज्ञान के अखंड प्रकाश के कोटि कोटि जनो  तक पहुंचने में हमारी मदद करे  | 


*****************************************************
अनमोल वचन 
"जब सब कुछ आपके विपरीत जाये तो याद रखे वायुयान हवा के विपरीत ही उड़ान भरता है हवा के साथ नहीं "

*****************************************************

हमें आपके छोटे सी दान की जरूरत है क्यों नीचे क्लिक करे और जाने | 



*****************************************************



Reactions:

Post a Comment

 
Top